Hollywood Coronavirus Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Tales Facts Education & Jobs Cricket World Cup 2023 Science & Tech Others
क्या आप जानते है रामानंद सागर की रामायण के राम, सीता और रावण चरित्र के बारें में

क्या आप जानते है रामानंद सागर की रामायण के राम, सीता और रावण चरित्र के बारें में


जहाँ एक तरफ पूरी दुनिया कोरोना वायरस माहमारी से पीड़ित है और इसपर विजय पाने के लिए झुंझ रहे है वही दूसरी तरफ रामानंद सागर की ‘रामायण’ लोगों को बुराई पर अच्छाई की जीत यानि रावण पर रामजी की जीत को दिखा कर लोगों का हौसला बुलंद का रही हैं। साल 1987 में आई रामायण ने अब 2020 में 33 साल बाद दूरदर्शन पर वापसी की हैं। आजकल जहाँ सभी भारतवासी 21 दिन के लॉक डाउन के चलते घर में रहने पर विवश है तो दूसरी तरफ उनके पास समय व्यतीत करने का कोई अच्छा प्लान नहीं हैं। लोगों की इसी विवशता को देखकर और पब्लिक की भारी डिमांड को देखते हुए 27 मार्च को सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट कर रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल की वापसी की बात कंफर्म कर दी थी।

साल 1987 में जब रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल टीवी पर आता था तो घरों में और सड़कों पर कुछ ऐसा माहोल होता था जिसे आप सोच भी नहीं सकते हैं। लोग पाने अपने घर में पूरी शांति के साथ इस सीरियल को देखा करते थे और कुछ लोग तो इस सीरियल में आने वाले लोगों के चरित्र को भगवान् का असली रूप मानकर उनकी पूजा तक करने लग जाते थे। जब यह सीरियल टीवी पर आता था तो लोग हाथ जोड़कर टीवी के आगे बैठ जाते थे। इस सीरियल में राम, सीता, लक्ष्मण, हनुमान और रावण का रोल करने वाले एक्टर्स को लोग अच्छी तरह से पहचानते थे लेकिन क्या आप जानते है ये लोग आजकल कहाँ है और क्या कर आहे हैं। आइये आज हम आपको रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में काम करने वाले सभी चरित्रों के बारें में बताते हैं -

  • अरविन्द त्रिवेदी - रावण
  • अरुण गोविल - श्रीराम
  • दीपिका - सीता
  • सुनील लहरी - लक्ष्मण
  • संजय जोग - भरत
  • समीर राजदा - शत्रुघ्न
  • दारा सिंह - हनुमान
  • बाल धुरी - दशरथ
  • जयश्री गडकर - कौशल्या
  • रजनीबाला - सुमित्रा
  • पद्मा खन्ना - कैकयी
  • ललिता पवार - मन्थरा
  • विजय अरोड़ा - इन्द्रजीत
  • मुलराज राजदा - जनक
  • सुधीर दाल्वी - वशिष्ठ
  • चंद्रशेखर - सुमंत्र 
  1. अरविंद त्रिवेदी -रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में रावण का रोल निभाने वाले अरविंद त्रिवेदी मध्य प्रदेश में जन्मे थे और इन्होने अपने करियर की शुरुआत फिल्म 'पराया धन' से की थी। अरविंद त्रिवेदी ने रामायण में रावण का रोल इतनी बखूबी से निभाया था कि लोग इनको असलियत में रावण जैसा मानने लगे थे | रावण की गर्जन और बड़ी-बड़ी मूंछों को लोग आज भी याद रखे हुए हैं। हिंदी फिल्मों से अपने करियर की शुरुआत करने वाले अरविन्द जी ने कई गुजराती फिल्मों में भी काम किया और अपनी पहचान कायम की। अरविंद त्रिवेदी ने करीब 300 फिल्मों में काम किया। आज के समय में अरविंद त्रिवेदी जो अपने असली जीवन में राम भक्त हैं रावण के रोल को निभाकर असली प्रसिद्धि पा गए। उन्होंने गुजराती सिनेमा में भी अपना बहुत बड़ा योगदान दिया जिसके लिए उन्हें कई अवॉर्ड मिले। उन्हें अपने काम के लिए गुजरात सरकार ने भी सम्मानित किया था। उन्होंने 1991 में पॉलिटिक्स में भी अपना हाथ आजमाया और गुजरात के साबरकांथा लोकसभा सीट से बीजेपी के लिए चुनाव लड़ा और जीतकर संसद तक पहुंचे। 81 साल के अरविंद त्रिवेदी अब उम्र के कारण और अपने स्वास्थ्य के कारण चलने में असमर्थ हैं। आजकल वो अपना समय राम नाम जपकर व्यतीत कर रहे हैं। एक बार एक इंटरव्यू के दौरान अरविंद त्रिवेदी ने बताया था कि, "मैंने तो रामानंद सागर से केवट का रोल मांग रहा था लेकिन उन्हें देखते ही रामानंद सागर ने उन्हें स्क्रिप्ट थमाकर बोला कि मुझे तो अपना लंकेश यानी रावण मिल गया है। मैंने कुछ जवाब नहीं दिया और वह से चला गया। रामानंद सागर ने बाद में पूछने पर बताया कि जिसमे बल, बुद्धि और  मुख पर तेज हो और चाल-ढाल देखकर समझ गए कि वही उनका रावण बन सकते हैं।
  1. दीपिका चिखलिया - रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में राम की पत्नी सीता का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस दीपिका की शुरुआत कुछ ख़ास नहीं रही थी। इन्होने कुछ बी-ग्रेड फिल्मों ‘चीख’ और ‘रात के अंधेरे में’ से अपने करियर की शुरुआत की थी। रामानंद सागर की ‘रामायण’ का हिस्सा बनने से पहले इन्होने कुछ सीरियल जैसे ‘विक्रम बेताल’ और ‘दादा-दादी की कहानियां’ में भी काम किया था। लेकिन ‘रामायण’ में सीता का रोल करने के बाद इनकी जगह टीवी की दुनिया में बदल गयी और इनको इस सीरियल के जरिये काफी पॉपुलैरिटी मिली। इन्होने भी अरविन्द जी की तरह पोलिस्टिक्स ,में हाथ आजमाया और 1991 में वड़ोदरा की सीट से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ा और एमपी बन गईं। लेकिन रामायण में काम करने वाले चरित्र को भला पोलिस्टिक्स कहा भाति इसलिए इन्हों जल्दी ही पोलिस्टिक्स को छोड़ दिया और सिनेमा जगत में वापसी की। हेमंत टोपीवाला नाम के एक बिज़नेसमैन जो श्रंगार बिंदी और टिप्स एंड टोज नेलपॉलिश बनाती है, शायद करके इन्होने इस कंपनी की रिसर्च और मार्केटिंग टीम की हेड की पोजीशन हासिल की। आखिरी बार दीपिका को आयुष्मान खुराना की फिल्म ‘बाला’ में देखा गया था जिसमे इन्होने यामी गौतम की मां सुशीला मिश्रा का रोल निभाया था।
  2. अरुण गोविल - रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में श्रीराम जी का किरदार निभाने वाले एक्टर अरुण गोविल आजकल ट्विटर पर चर्चा का विषय बने हुए हैं। इसका कारण  उन्होंने हाल ही में ट्विटर ज्वाइन किया है और उनके फैन्स इस बात से बेहद खुश है । अरुण गोविल ने ट्विटर पर एक ट्वीट करते हुए लिखा, "आखिरकार मैंने ट्विटर जोइन कर लिया है।  जय श्री राम." अरुण गोविल के इस ट्वीट पर लोग खूब कमेंट कर रहे हैं और साथ ही उनका स्वागत कर रहे हैं।  एक फैन ने ट्वीट करते हुए लिखा, "आपकी यह मुस्कुराहट सभी दुखों को खत्म कर देती है. स्वागत है।" अरुण गोविल ने रामायण में राम का किरदार निभाने से पहले ‘विक्रम बेताल’ में काम किया था। प्रशांत नंदा की फिल्म पहल (1977) से बॉलीवुड में अपनी शुरुआत करने वाले अरुण ने जब कनक मिश्रा की सावन को आने दो  -1979 और सत्येन बोस की साँच को आंच नहीं - 1979 में अभिनय किया तो उन्हें स्टारडम मिला। अरुण के  अनुसार, उन्होंने पहली बार रामायण में पात्र  दिया था तो उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया था। बाद में अरुण को बुलाया गया और रामानंद सागर जी ने उन्हें राम का रोल ऑफर किया। रामायण में यह रोल करने से पहले अरुण गोविल 1977 में हिंदी फिल्म ‘लव कुश’ में लक्षण का रोल पहले भी कर चुके थे। अरुण ने इसके अलावा बहुत सी हिंदी, भोजपुरी, ब्रज भाषा, ओडिशा एंड तेलूगु फिल्मों में काम करने के साथ-साथ कई हिंदी सीरियल में काम किया था। 2014 में भोजपुरी फिल्म ‘बाबुल प्यारे’ में अरुण ने आखिरी बार काम किया था। रामायण’ में राम का रोल करने वाले अरुण ने रामायण में लक्ष्मण का रोल करने वाले सुनील लहरी के साथ मिलकर एक प्रोडक्शन हाउस शुरू किया था, जिसके तले ये लोग ‘मशाल’ नाम का टीवी शो बनाते थे।
  3. सुनील लहरी– रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में लक्ष्मण का रोल करने वाले सुनील लहरी ने सागर आर्ट्स के कई पिछले प्रोजेक्ट्स जैसे विक्रम बेताल और दादा दादी की कहानियां से जुड़े हुए थे। उनकी पहली फिल्म नकसलवादी थी, जिसमें उन्होंने स्मिता पाटिल के साथ काम किया था। फिर उन्होंने 'फिर आए बरसात' में काम किया। रामायण में लक्षण का रोल पहले किसी और को दिया गया था लेकिन जब उस व्यक्ति ने सीरियल छोड़ दिया तो सुनील को इस रोल के लिए चुना गया। 1991 की संगीतमय फिल्म "बहारों की मंज़िल"में एक प्रमुख भूमिका निभाई थी। उन्होंने 1990 की टीवी श्रृंखला परमवीर चक्र में लेफ्टिनेंट II रामा राघोबा राणे का किरदार निभाया। 2017 में वो एक हिंदी फिल्म "ए डॉटर टेल - पंख" में भी दिखाई दिए थे। कुछ समय पहले वो रामायण में राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल के साथ एक प्रोडक्शन कंपनी शुरू की, जिसके तले वो टीवी सीरियल बनाया करते थे।
  4. दारा सिंह– रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में हनुमान का रोल निभाने वाले दारा सिंह रंधावा पेशे से एक पहलवान, अभिनेता और राजनेता रहे हैं। 1952 में दिलीप कुमार की फिल्म ‘संगदिल’ से एक्टिंग डेब्यू किया। वो भारत के राज्य सभा (उच्च सदन) में नामांकित होने वाले वो पहले खिलाड़ी थे , उन्होंने हिंदी और पंजाबी फिल्मों में निर्माता, निर्देशक और लेखक के रूप में काम किया। उन्होंने कई फिल्मों और टेलीविजन में अभिनय किया। उन्हें कुश्ती की दुनिया में और सिनेम जगत में  एक सफल फिल्म स्टार के रूप में जाना जाता है। फिल्म बजरंगी (1976) और रामानंद सागर की रामायण में हनुमान की उनकी भूमिका ने उन्हें लोकप्रिय बना दिया। उन्होंने हिंदी, तमिल, तेलुगू और मलयाली भाषा की फिल्मों में भी काम किया। 1977 में हिंदी फिल्म ‘लव कुश’ में दारा सिंह ने हनुमान का ही रोल निभाया था। एक्टिंग के साथ-साथ उन्होंने पॉलिटिक्स में 1998 में बीजेपी में शामिल होने का फैसला किया। वो 2003 से लेकर 2009 तक राज्य सभा सांसद रहे। 1996 में उन्हें रेसलिंग ऑब्जर्वर न्यूज़लैटर हॉल ऑफ़ फ़ेम में शामिल किया गया। 7 अप्रैल 2018 को WWE ने उन्हें 2018 के WWE हॉल ऑफ फ़ेम लिगेसी क्लास में शामिल किया। उनकी आखिरी हिंदी फिल्म जब वी मेट थी और उनकी बीमारी से पहले रिलीज हुई उनकी आखिरी पंजाबी फिल्म दिल अपना पंजाबी थी। उन्होंने सात पंजाबी फ़िल्मों का निर्देशन किया और दो हिंदी फिल्मों का निर्देशन भी किया। दारा सिंह को 12  जुलाई 2012 को दिल के दौरे के बाद उनकी मृत्य हो गई।
  5. संजय जोग - रामानंद सागर की ‘रामायण’ सीरियल में भरत का किरदार निभाने वाले  संजय अब हमारे बीच में नहीं हैं। लिवर इंफेक्शन के कारण 40 साल की उम्र में ही उनका निधन हो गया। इस किरदार से वह लोगों के दिलों में बस गए थे। संजय ने कई फिल्मों में भी काम किया, लेकिन उन्हें भरत के किरदार में ज्यादा पॉप्युलैरिटी मिली।

    ALSO READ:- रामानंद सागर की रामायण अब लेगी बॉलीवुड फिल्म का रूप

Comments

Trending