Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Tales Facts Others Education & Jobs Cricket World Cup 2019 Science & Tech

बायोफीड बैक उपचार

आज के दौर में बायोफीड बैक उपचार को एक प्रकार से चिकित्सक थैरेपी के तौर पर पहचाना जाता है। मानव स्वास्थ्य को बेहतर और सुखद बनाने के लिए बायोफीडबैक उपचार काफी उपयोगी साबित हो रहा है।

You Might Also Like: चर्बी, मोटापे, कॉलेस्ट्रोल और मेटाबॉलिज्म की समस्या के लिए रामबाण है यह आयुर्वेदिक औषधि

बहुत पहले स्वास्थ्य के विशेषज्ञों ने यह सोचा था कि मानव शरीर के कार्यों को प्रभावित करने के लिए रक्तचाप, ह्रदय गति और त्वचा के तापामान के रूप में शरीर की आंतरिक प्रक्रियाएं चिकित्सक विशेषज्ञों के नियंत्रण से बाहर ना हो फिर इसके लिए उन्होंने बायोफीडबैक उपचार की खोज की। जो आज काफी सफलतापूर्वक कार्य कर रहा है।

बायोफीड बैक क्या है-

बायोफीडबैक उपचार क्या है और इससे हमारे शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है चलिए बताते है आपकों। बायोफीडबैक एक प्रकार की चिकित्सा टेक्नीक है, जो मुख्य शरीर कार्यो को मापने के लिए आपके शरीर से जुड़े सेंसर का उपयोग करता है। बायोफीडबैक उपचार कई आधुनिक मशीनों द्वारा किया जाता है। इस टेक्नीक से एक व्यक्ति को ह्रदय गति, रक्तचाप, और मांसपेशियों में तनाव के रूप में कुछ शारीरिक कार्यों को आम तौर पर स्वचालित रूप से पाए जाते है, को नियंत्रित कर देता है।

एक प्रकार से अगर यूं कहें कि बायोफीडबैक का उद्देश्य आपकों आपके शरीर के कार्यों के बारे में अधिक रूप से जानने के लिए सहायता करता है। बायोफीड बैक उपचार से आप परेशानी की स्थिति से बाहर आते है, चाहे वह किसी भी किस्म की परेशानी हो चाहे भावनात्मक रूप से परेशानी हो या फिर शारीरिक रूप से परेशानी हो। बायोफीडबैक थैरेपी से मानव की आन्तरिक प्रक्रियाएं नियंत्रण में आती है जिससे स्वास्थ्य में सुधार आता है।

बायोफीड बैक उपचार से किसी भी मानव को शारीरिक और मानसिक रूप से किस-किस प्रकार की समस्याओं या बिमारियों से निजात मिलती है चलिए बताते है आपकों-

बायोफीड बैक उपचार से शारीरिक बिमारियों जैसे-

  • कब्ज़
  • चिडचिड़ा आंत्र सिंड्रोम
  • कीमोथैरेपी से दुष्प्रभाव
  • उच्च रक्तचाप
  • गंभीर दर्द
  • सिर दर्द
  • अस्थमा
  • और पेट से सम्बन्धित काफी परेशानियां दूर होती है।

शारीरिक बिमारियों के साथ दिमागी बिमारियां और मानसिक बिमारियां जिससे लगभग काफी सारे लोग ग्रसित होते है, उन्हे इस थैरेपी से बेहद ही आराम मिलता है।

  • असयंम की स्थिति को भी दूर किया जाता है।
  • तनाव और चिन्ता से मुक्त होना

बायोफीडबैक उपचार के कार्य करने की प्रकिया-

एक मॉनिटर से कनेक्ट होने वाले विद्युत सेंसरों को आपके शरीर से जोड़ दिया जाएगा । सेंसर तनाव के एक या एक से संकेतों को मापता है। जिसमें ह्रदय गति , मांसपेशियों में तनाव, या शरीर का तापमान शामिल हो सकता है।यह माप आपके शरीर को विभिन्न उत्तेजनाओं के बारे किस प्रकार की प्रतिक्रियाएं देता है इसके बारे में बायोफीड बैक उपचार फीडबैक प्रदान करता है।

वाकई में यह बायोफीडबैक चिकित्सा आपकों स्वंय के बारें में अच्छे से जानकारी भी दे सकता है और सिखा सकता है कि श्वास व्यायाम , विश्राम तकनीक और मानसिक व्यायाम के माध्यम से अपने दिल की गति कम कैसे करें। साथ ही आप इन तकनीकों के परिणामों को माप सकते है और मॉनिटर पर अभ्यास कर सकते है । यह उपचार सकारात्मकता प्रतिक्रियाओं और आराम को प्रोत्साहित करती है।

इलेक्ट्रोनिक मशीनों की मदद से एक सफल बायोफीड बैक उपचार किया जाता है। और पिछले कुछ सालों से इस उपचार के कार्यों ने गति पकड़ी है। जिससे लोगों का जीवन काफी प्रभावित हो रहा है जिससे लोगों को सुखद जीवन प्राप्त हो रहा है।

Comments

Trending