Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Tales Facts Others Education & Jobs Cricket World Cup 2019 Scinece & Tech

चर्बी, मोटापे, कॉलेस्ट्रोल और मेटाबॉलिज्म की समस्या के लिए रामबाण है यह आयुर्वेदिक औषधि

आज के वक्त में बढ़ते वजन के कारण कई लोग परेशान है. इससे न सिर्फ कई बीमारियां उत्तपन्न होती है बल्कि शरीर की सुंदरता भी बिगड़ जाती है. इसलिए इससे छुटकारा पाने के लिए लोग कई प्रकार के जतन करते हैं. कुछ लोग एक्सरसाइज के लिए वक्त निकालने लगते हैं लेकिन अगर आप एक्सरसाइज के लिए वक्त नहीं निकाल पार रहे हैं और वजन भी कम करना चाहते हैं तो आज हम अपने इस लेख में आपको कुछ ऐसी आयुर्वेदिक औषधियों के बारे में बताने वाले हैं जो आपकी इस समस्या को दूर कर देगी.

You Might Also Like: आयुर्वेद के इन आसान तरीकों से दूर करें एसिडिटी की समस्या

गुग्गुल आपकी इसकी समस्या के लिए रामबांण है. दरअसल, आयुर्वेद में भी इसे बेहत गुणकारी माना जाता है. गुग्गुल कई बीमारियों और समस्याओं को दूर करने का काम करता है. गुग्‍गुल कफ, वात, कृमि और अर्श नाशक होता है. इसके अलावा यह सूजन और जलन को कम करने का भी काम करता है.

बता दें, गुग्गुल एक वृक्ष का नाम है. इसकी महक मीठी होती है और इसे आग में डालने पर आसपास की जगह सुगंधित हो जाती है. तो चलिए आपको बताते हैं कि यह कोलेस्ट्रॉल, मोटापा और मेटाबॉलिज्म की समस्या को कैसे दूर करता है और इसके लिए आपको किस तरह से इसका सेवन करना चाहिए.

कोलेस्ट्रॉल करे कम, दिल के रोगों से करे बचाव

गुग्गुल के इस्तेमाल से आप अपने शरीर से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को घटा सकते हैं. यहां तक कि कई वैज्ञानिक शोधो में भी यह पता चला है कि गुग्गुल कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है. इस वजह से इसे दिल के लिए भी काफी लाभकारी माना जाता है. बता दें, दिल की अधिकतर समस्याओं की वजह बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल होता है. इसके अलावा गुग्गुल रक्तचाप के स्तर को कम और सामान्य स्तर पर बनाए रखने में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. साथ ही यह दिल को स्वस्थ रखता है.

मेटाबॉलिज्म भी करे बेहतर

गुग्गुल के सेवन से सिर्फ मोटापा ही कम नहीं होता बल्कि आपका मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है. बता दें, कि यदि आपका मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाए, तो आपको कई तरह की दिक्कते हो सकती हैं. जैसे- वजन घटना, कमजोरी होना, थकान और आलस आदि. गुग्गुल के सेवन से आपकी पाचन क्रिया ठीक होती है, जिससे मेटाबॉलिज्म बेहतर होता है. इसके अलावा ये थायरॉइड में भी लाभकारी होता है.

मोटापा करे कम और आपको फिट रखे गुग्गुल

सिर्फ कॉलेस्ट्रोल ही नहीं गुग्‍गुल का प्रयोग आप शरीर में फैट को कम करने के लिए भी कर सकती हैं. रोजाना इसका सेवन करने से आपके शरीर, खासकर पेट, जांघों और हिप्स की चर्बी बर्न होती है. सर्दियों में भी गुग्गुल का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है. अगर आप पतला होना चाहती हैं तो आज से ही गुग्गुल का इस्तेमाल करना शुरू कर दें.

ऐसे करें गुग्गुल का सेवन

दरअसल, गुग्गुल एक तरह का गोंद होता है इसलिए इसे इस्तेमाल करने के लिए आपको इसे पीसकर इसका पाउडर बनाने की आवश्यकता है. जिसके बाद रोजाना 1 से 2 ग्राम गुग्गुल पाउडर को गर्म पानी या दूध के साथ लें. आप चाहें तो सर्दियों में आप दिन में 3 बार इसका सेवन कर सकते हैं जबकि गर्मियों में केवल 1 या 2 बार ही इसका सेवन करना चाहिए. दरअसल, गुग्‍गुल की प्रकृति गर्म होती है. इस कारण गर्मियों में इसका ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए. साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि इसका प्रयोग करते वक्त मसालेदार भोजन, या खट्टे खाद्य पदार्थों का सेवन न करें.

मोटापा कम करने के लिए ये आयुर्वेदिक औषधियां भी हैं लाभकारी

एलोवेरा

एलोवेरा बहुत फायदेमंद है. इसके सेवन से आप अपना वजन जल्दी कम कर सकते हैं. तो चलिए आपको बतात हैं कि आप किस तरह से एलोवेरा के सेवन से अपना वजन घटा सकते हैं. इसके लिए आप एलोवेरा का जेल, जूस या स्मूदी का प्रयोग कर सकते हैं. सबसे पहले आप एलोवेरा को बीच से काटकर इसका जेल निकाल लें. एलोवेरा में मल्टी विटामिन, लवण, एंजाइम, कार्बोहाइड्रेट, अमीनो एसिड, सेलिसिलिक एसिड और कई दूसरे पोषक तत्व यानी न्यूट्रिएंट्स पाए जाते हैं जो वजन कम करने में मददगार साबित होते हैं. यह शरीर के जहरीले तत्वों को निकालता है और मेटाबॉलिज्म बढ़ाता. जिससे पाचन क्रिया बेहतर होती है और वजन तेजी से घटने लगता है.

त्रिफला चूर्ण

मोटापा या अधिक चर्बी की समस्या को खत्म करने के लिए त्रिफला चूर्ण भी बेहद गुणकारी है. त्रिफला चूर्ण बहेड़ा, आंवला और हरड़ से बनता है. इस कारण इसे त्रिफला चूर्ण कहा जाता है क्योंकि यह तीन चीजों का मिश्रण है. ये तीनों ही चीजें शरीर के लिए बेहद लाभकारी होती हैं. आपको त्रिफला चूर्ण किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर से मिल सकता है. यह केवल मोटापा ही नहीं बल्कि कब्ज से भी राहत देता है. साथ ही हाजमे को भी बेहतर करता है. साथ ही यह मेटाबॉलिज्म बढ़ाता है और शरीर के टॉक्सिक तत्वों को बाहर निकालता है. आप हर रात त्रिफला का चूर्ण गर्म पानी में भिगोकर रखें और सुबह शहद के साथ पीएं. इसका असर आपको एक हफ्ते में ही दिखने लगेगा.

You Might Also Like: अशवगंधा के चमत्कारी फायदे!

You Might Also Like: जानिए कैसे प्याज के छिलके भी हैं बड़े काम के, डेंगू से लेकर कई समस्याओं का समाधान हैं!

Comments

Trending