Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education

कृष्ण जन्माष्टमी

कृष्ण जन्माष्टमी

कृष्ण जन्माष्टमी भगवान कृष्ण के पृथ्वी पर अवतरण के उपलक्ष्य में मनाया जाता है | भगवान श्री कृष्ण भगवान विष्णु के आठवे अवतार माने जाते है | भगवान श्री कृष्ण को पूर्ण ईश्वर अवतार माना जाता है | भगवान कृष्ण भगवान विष्णु के  सोलह कलाओ से पूर्ण भव्य अवतार माने जाते है | भगवान कृष्ण के जन्म के विषय में तो सभी जानते है | वे अत्याचारी कंस के कारागार में जन्मे थे और उनकी माता देवकी और पिता वासुदेव कंस के बंदी थे | एक आकाशवाणी के माध्यम से ये जानने के बाद की उसकी चचेरी बहन का आठवाँ पुत्र ही उसका काल होगा दुष्ट कंस ने अपनी बहन और बहनोई को बंदी बना लिया था | उनके पिता ने देव कृपा से कृष्ण को नन्द के घर छोड़ दिया था | कंस को जब यह पता चला तो उसने अनेक राक्षसों को कृष्ण को मारने भेजा किन्तु सभी राक्षस काल के गाल में समा गए और कृष्ण की ख्याति चारो ओर फैलने लगी और अंत में भगवान कृष्ण ने कंस का अंत किया |

भगवान कृष्ण ने द्वारिका नगरी बसाई और वहाँ शासन किया | भगवान कृष्ण ने धर्म की स्थापना के लिए  महाभारत के युद्ध में पांडवो का साथ दिया | अर्जुन को कर्म करने का पाठ सिखाया और संसार को भगवद गीता के रूप में सत्य का ज्ञान दिया | भगवान कृष्ण ने गाय की रक्षा और समाज में स्त्रियों की रक्षा का पाठ सिखाया | भगवान कृष्ण गोपालक थे उन्हें गोपाला नाम से भी पुकारा जाता है | भगवान कृष्ण ने नरकासुर राक्षस के चंगुल से 16000 स्त्रियों  बचाया जिन्हे कोई अपनाने को तैयार नहीं हुआ तो भगवान कृष्ण ने उन्हें अपने महल में रखा और उनकी सेवा की |भगवान कृष्ण ने भगवद गीता में कहा है की' जब जब पृथ्वी पर धर्म का नाश होगा अधर्मी और अन्यायी लोग बढ़ेंगे तब तब धर्म की पुनः स्थापना के लिए और अधर्मियों के नाश के लिए मैं हर युग में अवतरित होऊंगा '|

कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार पुरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है | इस दिन लोग व्रत रखते है और रात्रि में भगवान कृष्ण का विधिवत पूजन कर मध्यरात्रि में व्रत तोड़ते है | इस दिन भगवान कृष्ण की मूर्ति को पंचामृत से स्नान कराकर नए वस्त्र और आभूषण पहनाये जाते है और उन्हें पालने में झूला झुलाया जाता है |

Comments

Trending