Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education

अस्वछता एक अभिशाप!

अस्वछता एक अभिशाप!

प्रधानमंत्री मोदी ने देश में स्वछता अभियान चला रखा है और उन्हें इस मुद्दे पर देश का समर्थन भी प्राप्त हो रहा है | लेकिन सोचने वाली बात ये है की भारत जैसा देश जहा शौच के बाद नहाना अनिवार्य समझा जाता था ,जहा स्वछता का स्तर इस उचाई पर था की प्रातः बह्ममुहूर्त में ही उठाकर स्त्रियाँ घर की सफाई कर फिर नहाकर ही रसोई में प्रवेश करती थी | घर चाहे कितना ही बड़ा क्यों ना  हो पूरे घर की सफाई रोज़ की जाती थी  उस देश में  कोई हमे बताएगा की गंदगी से बीमारिया उतपन्न  होती है  तभी हमे पता चलेगा |

हम सरकार को दोष देते है सरकार कूड़े के निस्तारण  की उचित व्यवस्था नहीं करती क्या हम सोचते है की हम मॉल में भी जाते है तो कूड़े को नीचे ही डाल देते है वहाँ तो व्यवस्था होती है फिर हम ऐसा क्यों करते है ? दरसल हम सभ्य नहीं असभ्य होते जा रहे है | अगर आप प्राचीन भारत पर नजर डाले तो हमे पता चलेगा की हम कितने जागरूक और उन्नत थे | प्लास्टिक सर्जरी के प्रथम डाक्टर आचार्य चरक थे | ऐसी कोई जड़ीबूटी नहीं जिसका ज्ञान भारत को नहीं फिर हम क्यों आज इतने लाचार है की हम स्वयं को स्वच्छ भी नहीं रख सकते | उसके लिए भी अभियान चलाना पड़ता है |

अस्वछता से होने वाली  बीमारियों की गिनती भी करना मुश्किल है अनेक बीमारिया और दूषित वातावरण इसकी देन है |हम स्वयं तो साफ़ रहे ही साथ ही हमे अपने आस पास का वातावरण भी साफ़ रखना चाहिए | स्वछता से कई बीमारियों से बचा जा सकता | 21 वी सदी में भी हमारे देश में  गंदगी से उतपन्न बीमारियों से होने वाली मौत का आकड़ा चौंकाने वाला है | अभी भी भारत में कई राज्य ऐसे है जो खुले सोच जाने को मजबूर है जब देश चाँद और मंगल पर जाकर सफलता के झंडे गाड़ चूका है उस समय में ये खबर विचलित करने वाली है |

हम छोटी छोटी बातो का ध्यान रख कर अपने आस पास के वातावरण को स्वच्छ रख सकते है -

  • कूड़े को कहीं भी ना फेंके |
  • घर में ही सोच की उचित व्यवस्था करे ,जरूरी नहीं की महंगे शौचालय ही बनवाये जाए इसके लिए अस्थायी  व्यवस्था भी अपनायी जा सकती  है |
  • गाँवों में तो सब्जी के छिलको , गोबर और अन्य जैविक चीजों से जैविक खाद बनाई जा सकती है इससे उतपन्न अन्न भी स्वास्थ्य  वर्धक होता है |
  • भोजन करने से पहले हाथ अवश्य धोये |
  • शौच के बाद साबुन से हाथ अवश्य धोये |
  • भोजन के सभी खाद्य पदार्थो को ढककर रखे |
  • नालियों ,गड्डो और किसी सामान में पानी जमा न होने दे |
  • छोटे बच्चो को कोई भी सामन मुँह में ना डालने दे | और सबसे जरूरी बात स्नान प्रतिदिन अवश्य करे |

ऐसी ही बहुत सी छोटी छोटी बाते है जिनका ध्यान रखकर आप डेंगू ,मलेरिया ,इन्फ्लाइटिस ,पेट में कीड़े जैसी अनेक बीमारियों से आप अपना बचाव कर सकते है | स्किन संबंधी भी कई रोग गंदगी से ही उतपन्न होते है |

 

Comments

Trending