Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Tales Facts Others Education & Jobs Cricket World Cup 2019 Science & Tech

अब अयोध्या का हो जाएगा पूरा मेकओवर, जानें, क्या-क्या होने वाले हैं बदलाव

एक लंबे इंतजार के बाद अयोध्या के पक्ष में फैसला आ चुका है और वहां राम मंदिर बनाने की अनुमति भी मिल चुकी है। अयोध्या का राम मंदिर के पक्ष में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद, यहां रिजॉर्ट, पांच सितारा होटल, अंतर्राष्ट्रीय बस टर्मिनल और एक हवाई अड्डे के निर्माण की योजना बनाई जा रही है। इतना ही नहीं, उत्तर प्रदेश सरकार ने सरयू नदी पर एक क्रूज शुरू करने की भी योजना बनाई है।

इन योजनाओं के तहत अयोध्या को एक पूर्ण रूप देने के लिए तैयारी है यानि अयोध्या मेकओवर के लिए अब पूरी तरह तैयार है।

विकास योजना के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए अयोध्या विभाग के उप निदेशक सूचना मुरली धर सिंह का कहना है कि जल्द ही अयोध्या  तीर्थ विकास परिषद का गठन किया जाएगा। अयोध्या में सरयू नदी पर रिवर क्रूज शुरू करने की योजना पर काम चल रहा है। अयोध्या को तिरुपति जैसा शहर बनने में लगभग चार साल लगेंगे। 

सिंह ने ये भी कहा कि अयोध्या में एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के लिए बहुत तेज गति से काम शुरू किया जाएगा, ताकि अप्रैल 2020 में राम नवमी (भगवान राम का जन्म उत्सव) से पहली उड़ान भरी जा सके। उन्होंने कहा कि अयोध्या रेलवे स्टेशन का विस्तार शहर में एक अंतरराष्ट्रीय बस टर्मिनल के निर्माण के अलावा भी किया जा सकता है। हालांकि इस पर अभी बातचीत चल रही है। 

मुरली धर सिंह ने ये कहा कि इसके अलावा, एक फ्लाई-ओवर 5-किलोमेट्री-फैज़ाबाद और अयोध्या के बीच स्थित होगा। पांच सितारा होटल बनाने और अयोध्या में 10 रिजॉर्ट बनाने का काम इसी साल दिसंबर में शुरू होने की संभावना है। 

मुरलीधर सिंह ने दावा किया है कि भगवान राम का मंदिर, जो अयोध्या में बनाया जाएगा, देश का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल होगा। उन्होंने कहा कि अगर एक दिन में 8 घंटे तक 2,000 के आसपास कारीगर और मजदूर काम करेंगे, तो मंदिर ढाई साल में तैयार हो सकता है।

मुरलीधर सिंह ने बताया कि अब तक 65 प्रतिशत पत्थरों की नक्काशी की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि मंदिर के आसपास के लगभग 5 किलोमीटर के क्षेत्र की देखभाल करने की ज़िम्मेदारी और अयोध्या में मंदिर का निर्माण सुप्रीम कोर्ट-जनादेश पर जारी साइट के द्वारा किया जाएगा।


मंदिर के 77 एकड़ के परिसर में कई धार्मिक संस्थान आएँगे। उन्होंने कहा कि एक गौशाला (गाय का शेड), धर्मशाला (रेस्ट हाउस) और वैदिक संस्थान के साथ-साथ अन्य धार्मिक इमारतें राम मंदिर के आसपास बनाई जाएंगी। उन्होंने ये भी बताया कि अयोध्या को आध्यात्मिक नगरी (आध्यात्मिक शहर) के रूप में विकसित किया जाएगा, और 10 श्री राम द्वारबनाए जाएंगे।

मुरलीधर सिंह ने बताया कि 10,000 रेन बसेरा (सामुदायिक विश्राम स्थल) का भी निर्माण किया जाएगा। भगवान राम से संबंधित सभी तालाबों का जीर्णोद्धार किया जाएगा।

आपको बता दें, एक शताब्दी से अधिक समय से चले आ रहे एक भयावह मुद्दे को सुलझाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बीते शनिवार को एक ऐतिहासिक फैसले में अयोध्या में विवादित स्थल पर एक ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर के निर्माण का समर्थन किया और फैसला सुनाया कि हिंदू पवित्र शहर में एक मस्जिद के लिए एक वैकल्पिक पांच एकड़ ज़मीन मिलनी चाहिए। फैसले के कुछ दिनों बाद, केंद्र ने एक ट्रस्ट की स्थापना के लिए बॉल

 रोलिंग शुरू की, जैसा कि राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद के फैसले में शीर्ष अदालत ने जनादेश के साथ दिया था। अधिकारियों के एक दल ने आदेश के बारे में जांच की। 

इस दौरान ये भी बताया गया कि कानून मंत्रालय और अटॉर्नी जनरल की राय ली जाएगी और तय किया जाएगा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के तौर-तरीकों को तय करने वाले ट्रस्ट को आगे बढ़ाने के लिए कैसे काम किया जाए। साथ ही ये भी बताया गया कि अधिकारियों की एक टीम को इसकी तकनीकी और बारीकियों के लिए शीर्ष अदालत के आदेश के सूत्र का अध्ययन करने का काम सौंपा गया है ताकि निर्णय के अनुसार विश्वास का गठन किया जा सके।

अयोध्या मंदिर ट्रस्ट के लिए इन लोगों के नाम आए हैं सुझाव में-

जैसा कि केंद्र ने अयोध्या में राम-जन्मभूमि स्थल पर एक मंदिर के निर्माण के लिए सुप्रीम कोर्ट-जनादेश ट्रस्ट स्थापित करने का आदेश दिया है। ऐसे में दक्षिणपंथी संगठन विश्व हिंदू परिषद ने सुझाव दिया है कि गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य-नाथ का इस ट्रस्ट में शामिल होना चाहिए। वीएचपी के प्रवक्ता शरद शर्मा ने भी कहा कि इस संगठन पर विश्वास जताते हुए कहा कि ट्रस्ट राम जन्मभूमि न्यास (आरजेएन) द्वारा तैयार किए गए डिज़ाइन के अनुसार एक भव्य मंदिर का निर्माण करेगा। न्यास 1990 से अयोध्या के कारसेवकपुरम में एक विशाल कार्यशाला चला रहा है और कारीगरों और शिल्पकारों ने इन वर्षों में शानदार नक्काशीदार पत्थरों और स्तंभों का निर्माण किया है, इस धारणा के साथ कि एक दिन इसका उपयोग राम लीला के लिए एक मंदिर बनाने के लिए किया जाएगा। आरजेएन योजना के अनुसार, मंदिर, जो एक बार बनाया गया था, ज़मीन से शीर्ष बिंदु (शिखर) तक 268 फीट लंबा, 140 फीट चौड़ा और 128 फीट ऊंचा होगा, 79 के अनुसार कुल 212 खंबों का उपयोग किया जाएगा। इस वर्क-शॉप के प्रभारी अन्नू भाई सोमपुरा हैं।


राम जन्मभूमि न्यास विश्व हिंदू परिषद द्वारा समर्पित है, जिसके सदस्य कार्यशाला में सेवा करते हैं। शर्मा ने ये भी कहा कि कार्यशाला की शुरुआत के लगभग 30 वर्षों के बाद हम संचार के विभिन्न माध्यमों से इस मंदिर के डिजाइन को लोगों के घरों में ले जा रहे हैं। भक्तों ने भी तस्वीरें और वीडियो ले ली हैं और इस बात का प्रसार किया है। इसलिए, यह लोगों की चेतना में राम मंदिर की प्रमुख छवि है। उन्होंने कहा है कि हमें उम्मीद है कि सरकार जिस नए ट्रस्ट का गठन करेगी, उसमें न केवल आरजेएन का प्रतिनिधित्व होगा, बल्कि न्यास द्वारा बनाई गई वास्तु योजना के अनुसार भव्य मंदिर का भी निर्माण होगा।

शर्मा ने कहा कि हम ट्रस्ट द्वारा स्वीकार की जा रही आरजेएन योजना के बारे में बहुत आशावादी हैं  या कम से कम भव्य मंदिर के डिज़ाइन में शामिल हैं।

Comments

Trending