Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Tales Facts Others Education & Jobs Cricket World Cup 2019 Scinece & Tech

सावधान, ग्रीन टी के सेवन से हो सकती हैं ये बीमारियां | Be careful, consumption of green tea can cause these diseases

लोग अक्सर वजन कम करने के लिए कई नुस्खे अपनाते हैं. इनमें सबसे मशहूर है ग्रीन टी. लोग अक्सर दूध की चाय के बजाय ग्रीन टी पीकर वजन कम करने की कोशिश करते हैं. दरअसल, ग्रीन टी में कई एंटीऑक्सीडेंट तत्व शामिल होते हैं जो कि आसानी से वजन कम करते हैं. आपने ग्रीन टी के बहुत फायदे सुने होंगे लेकिन क्या आपने कभी ग्रीन टी के सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में सुना है. जी हां, आज हम आपको ग्रीन टी के ऐसे नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे आपको कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. 

कई रिसर्च में भी ये दावा किया जा चुका है कि जरूरत से अधिक ग्रीन टी का सेवन सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है.

कुछ मुख्य समस्याएं- 

ग्रीन टी में मौजूद कैफीन के अधिक सेवन से सिरदर्द, नर्वनसनेस, नींद संबंधी समस्याएं, अनियंत्रि‍त हार्टबीट, चिड़चिड़ापन, कंपकंपी, चक्कर आना इत्यादि समस्याएं हो सकती हैं. ग्रीन टी में मौजूद एक रसायन का अधिक मात्रा में सेवन करने से लीवर इंजरी तक हो सकती है. 

ग्रीन टी में कैफीन- ग्रीन टी बहुत अधिक पीना असुरक्षित है और वास्तव में ये घातक हो सकता है. ऐसा अनुमान है कि ग्रीन टी में कैफीन की खुराक 10-14 ग्राम (150-200 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम) होती है. जो कि कम मात्रा में लेने के बावजूद गंभीर विषाक्त हो सकती है.

ग्रीन टी के नुकसान- 

पेट संबंधी समस्याएं- ग्रीन टी उन व्यस्कों के लिए सुरक्षित है जो उसे सिर्फ एक ड्रिंक के तौर पर कम मात्रा में पीते हैं. लेकिन कुछ लोगों को ग्रीन टी के अधिक सेवन से कब्ज और पेट संबंधी समस्याएं हो जाती हैं.

लीवर संबंधी समस्‍याएं- कई मामलों में ग्रीन टी के सेवन से लीवर खराब होने की समस्याएं भी सामने आई हैं. कई एक्सपर्ट भी ये बात कह चुके हैं कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों को ग्रीन टी का सेवन नहीं करना चाहिए. कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं जिनमें लोगों ने ग्रीन टी का सेवन किया था और उन्हें लीवर डैमेज की गंभीर समस्या से गुजरना पड़ा. हालांकि ऐसा बहुत ही दुर्लभ मामलों में हुआ है.

 किडनी संबंधी समस्याएं- ग्रीन टी में पाया जाने वाला ऑक्जेलिक एसिड किडनी में पथरी का कारण बन सकता है. दरअसल, इसमें कैल्शियम, अमीनो एसिड, यूरिक एसिड और फास्फेट जैसे तत्व पाए जाते हैं जो कि ऑक्जेलिक एसिड के साथ मिलकर पथरी बनने का कारण बन सकते हैं. 

गर्भावस्था में नुकसानदायक- गर्भावस्था के दौरान ग्रीन टी पीना नुकसानदायक हो सकता है. गर्भावस्था के दौरान जहां गर्भपात की आशंका बढ़ जाती है वहीं बच्चे में जन्‍मजात विकार उत्पन्न होने का खतरा बढ़ जाता है. साथ ही गर्भावस्‍था के दौरान फोलिक एसिड की कमी होने का खतरा बढ़ जाता है. हालांकि गर्भवती महिलाएं डॉक्टर की सलाह पर दिनभर में सिर्फ दो कप ग्रीन टी पी सकती हैं. 

स्तनपान करवाने में समस्या- स्तनपान करवाने वाली महिलाएं यदि दिनभर में दो कप ग्रीन टी पीती हैं तो वे रोजाना 200एमजी कैफीन का सेवन कर रही हैं. यदि वे इससे ज्यादा ग्रीन टी का सेवन करती हैं तो ब्रेस्ट मिल्क में कमी हो सकती है जिसका सीधा असर उनके बच्चे पर पड़ सकता है. 

आयरन की कमी- ग्रीन टी में मौजूद टैनिन, खाद्य पदार्थों और पोषक तत्व शरीर में होने वाले आयरन के अवशोषण में अवरोध उत्पन्न करते हैं. ऐसे में इसके सेवन से शरीर में आयरन की कमी की समस्या हो सकती है. 

भूख ना लगने की समस्या - ग्रीन टी आपकी भूख को मार सकती है. दरअसल, ग्रीन टी के सेवन से आप अंदर से कमजोर हो सकते हैं और भूख ना लगने की समस्या हो सकती है. 

टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन की कमी- एक रिसर्च के मुताबिक, ग्रीन टी रोजाना दो से अधिक कप नहीं पीनी चाहिए. इसके अधिक सेवन से प्रजनन हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन की मात्रा कम हो जाती है. 

एनीमिया में ना करें ग्रीन टी का सेवन- एनीमिया के मरीजों को ग्रीन टी का सेवन नहीं करना चाहिए. इससे उनकी हालत अधिक गंभीर हो सकती है.

बढ़ सकता है ब्लीडिंग डिसऑर्डर- यदि आपको बहुत ज्यादा खून बहने की समस्या है तो ग्रीन टी का सेवन बिल्कुल ना करें. ऐसा करने पर खून बहने की मात्रा बढ़ सकती है. 

एंजाइटी के दौरान रहें ग्रीन टी से दूर- एंजाइटी के मरीजों को भी ग्रीन टी से दूर रहना चाहिए. इसका अधिक सेवन मरीजों के एंजाइटी डिसऑर्डर को बढ़ा सकता है. 

डायबिटीज के मरीज रखें ध्‍यान- यदि आपको डायबिटीज है तो ग्रीन टी में मौजूद कैफीन की मात्रा ब्ल्ड शुगर कंट्रोल को प्रभावित कर सकती है. यदि आप डायबिटीज के दौरान ग्रीन टी का सेवन करते हैं तो आपको रोजाना अपना शुगर लेवल मॉनिटर करना चाहिए. 

आंखों के लिए नुकसानदायक- ग्रीन टी के सेवन से आंखों के अंदर अधिक दबाव पड़ता है. इस दबाव की वृद्धि आंखों में 30 मिनट तक होती है और जो कि कम से कम 90 मिनट तक रहती है. 

उच्च रक्तचाप के मरीजों के लिए नुकसानदायक- यदि आपको उच्च रक्तचाप की समस्या है तो ग्रीन टी के सेवन से आपका रक्तचाप अधिक बढ़ सकता है. हालांकि ये समस्‍या उन लोगों में ज्यादा देखी गई है जिन्होंने ग्रीन टी का सेवन हाल ही में शुरू किया है.  

डायरिया में ना करें ग्रीन टी का सेवन- डायरिया होने पर ग्रीन टी का सेवन बिल्कुल ना करें. ऐसा करने पर आप अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. 

डॉक्टर्स आमतौर पर रोजाना एक से दो कप ग्रीन टी पीने की सलाह देते हैं. इससे अधिक ग्रीन टी का सेवन आपकी संपूर्ण सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है.  

Comments

Trending