Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education & Jobs

पुणे IITM ने बनाया भारत का पहला सबसे तेज़ सुपरकम्प्युटर

पुणे IITM ने बनाया भारत का पहला सबसे तेज़ सुपरकम्प्युटर

भारत में तकनीक की शुरूआत देर से होने के कारण 1980 के दशक तक कोई भी सुपर कंप्यूटर नहीं था इसलिए भारत अमेरिका से सुपर कंप्यूटर लेना चाहता था ले‍किन अमेरिका ने भारत को सुपर कंप्यूटर देने से इंकार कर दिया। भारत के सेंटर ऑफ डेवलपमेंट पुणे द्वारा "परम-8000" पहले सुपरकम्प्युटर का  निर्माण किया गया। इसके बाद 1998 में सी-डेक द्वारा एक सुपर कंप्यूटर और बनाया गया जिसका नाम था "परम-10000" जिसकी क्ष्‍मता 1 खरब गणना प्रति सेकण्ड थी और इस तरह भारत का नाम तकनीक के क्षेत्र में विश्व के टॉप 10 देशों की सूची में आ गया

सोमवार को पुणे IITM ने भारत का पहले सबसे तेज़ सुपरकम्प्युटर को बनाया है। इस सुपरकम्प्युटर को बनाने में 450 करोड़ की लागत लगी है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को घोषणा की के देश के सबसे तेज और सबसे पहले "मल्टी पेटाफ्लोप्स" सुपर कंप्यूटर का निर्माण हो गया है। पेटाफ्लॉप कंप्यूटर का निर्माण कंप्यूटर की गति को और ज़्यादा तेज़ बनाने के लिए किया गया है। इस सुपरकम्प्युटर का नाम "प्रत्युष" रखा गया है।इस सुपरकम्प्युटर का कार्य मौसम और जलवायु का पूर्वानुमान लगाना होगा।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने ये भी कहा कि यह तकनीक मानसून, सुनामी, चक्रवात, भूकंप, वायु गुणवत्ता, बिजली गिरने, गर्म और ठंडे तरंगों, बाढ़ और सूखे पड़ने के पूर्वानुमान में भी देश की मदद करेगी और इस तकनीक से किसानो को भी मदद मिलेगी के वो मौसम की जानकारी अपने मोबाइल पर मैसेज के द्वारा प्राप्त कर सकेंगे। अभी हमारे देश में केवल इन किसानो की संख्या 24 million है जो 2019 तक 45 मिलियन होने का अनुमान है। इस सुपरकम्प्युटर का उद्घाटन करते हुए मंत्री ने ये भी बताया कि यह पीक क्षमता और प्रदर्शन के मामले में भारत की नंबर एक एचपीसी सुविधा होगी। 

Comments

Trending