Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education

असम में एनआरसी का पहला ड्राफ्ट जारी, 1.9 करोड़ लोगों के नाम वैध

असम में एनआरसी का पहला ड्राफ्ट जारी, 1.9 करोड़ लोगों के नाम वैध

असम में रविवार देर रात 31 दिसंबर को बहुप्रतीक्षित राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का पहला ड्राफ्ट जारी हो गया है। राज्य सरकार का कहना है  उन्होंने यह कदम असम में रहने वाले भारतीय नागरिकों की पहचान के लिए उठाया है ताकि अवैध रुप से भारत में रह रहे बांग्लादेशी घुसपैठियों को बाहर निकाला जा सके। इस प्रक्रिया में असम के 3.29 करोड़ लोगों ने आवेदन किए थे, जिनमें से 1.9 करोड़ को ही भारत का वैध नागरिक माना गया है। इसका मतलब ये है कि 1.39 करोड़ लोगों के नाम इस में रजिस्टर में नहीं हैं. इस लिस्ट को लेकर तनाव की आशंका है। वहीं माहौल न बिगड़े इसलिए सुरक्षा के कड़े इंतेजाम किए गए हैं।

भारत के रजिस्ट्रार जनरल शैलेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि प्रक्रिया अभी भी चल रही है जिसमें अब तक 1.9 करोड़ लोगों के नामो कि जांच हो गई है। बाकी बचे नामों की जांच की जा रही हैं। NRC के राज्य कॉर्डिनेटर प्रतीक हजेला ने बताया यह एक मुश्किल प्रक्रिया है कि जिन लोगों के नाम पहले ड्राफ्ट में छूट गए हैं, उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं है। जैसे ही सत्यापन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, एक और ड्राफ्ट जारी किया जाएगा। 

असम में लाखों लोगों को ये साबित करना है कि उनके माता-पिता 1971 में बांग्लादेश बनने से पहले ही असम में आकर रहने लगे थे। यह प्रक्रिया मई 2015 में शुरू की गई थी। रजिस्ट्रार जनरल ने बताया कि 68.27 लाख परिवारों से 6.5 करोड़ दस्तावेज मिले थे। इसे लेकर किसी तरह का तनाव न हो इसलिए केंद्रीय पुलिस बलों के क़रीब पैंतालीस हज़ार जवान तैनात किए गए हैं। सेना को भी ज़रूरत पड़ने पर तैयार रखा गया है। आरजीआई ने कहा कि दूसरे ड्राफ्ट में राज्य के बाकी एक करोड़ एक लाख लोगों के नाम होंगे। पूरा एनआरसी वर्ष 2018 के भीतर प्रकाशित किया जाएगा।

Comments

Trending