Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education & Jobs

रानी पद्मावती की कहानी !

रानी पद्मावती की कहानी !

चित्तौड़ की महारानी पद्मावती को कौन नहीं जानता, उनकी सुंदरता के चर्चे दूर दूर तक फैले हुए थे । उनकी सुंदरता से प्रभावित होकर जायसी ने तो उनके ऊपर एक पूरा महाकाव्य ही लिख डाला । वह चितौड़ के राजा रावल रत्न सिंह की दूसरी पत्नी थी जिसे उन्होंने स्वयंवर में हासिल किया था ।

दिल्ली का राजा अलाऊदीन खिलजी उनकी सुंदरता की चर्चा सुनकर उनको देखने के लिए चित्तौड़ तक आ गया लेकिन राजा रत्न सिंह ने अलाऊदीन खिलजी को पद्मावती से नहीं मिलने दिया, अलाऊदीन खिलजी ने षड्यंत्र रचकर शीशे में से पद्मावती का चेहरा दिखाने की प्रार्थना की और जब राजा रत्न सिंह पद्मावती का चेहरा दिखा कर वापस लौटने लगे तो अलाऊदीन खिलजी ने उन्हें बंदी बना लिया ।

पद्मावती अपूर्व सुंदरी होने के साथ - साथ बहुत बुद्धिमान भी थी, ऐसा कहा जाता है कि जब वह पानी पीती थी तो उनके कंठ से पानी नीचे जाता हुआ दिखता था । पद्मावती ने अपनी बुद्धिमता का परिचय देते हुए राजा रत्न सिंह को खिलजी के चुंगल से छुड़ा लिया । बोखलाए हुए खिलजी ने ऐसी परिस्थिति उत्पन्न कर दी जिससे राजा रत्न सिंह को आर - पार की लड़ाई करनी पड़ी । अचानक हुए हमले के लिए चित्तौड़ तैयार नहीं था और चित्तौड़ की हार निश्चित थी । रानी पद्मावती ने अपने शील की रक्षा के लिए हजारों चित्तौड़ की महिलाओं के साथ जौहर कर लिया ।

रानी पद्मावती के किस्से आज भी राजस्थान में हर कोई बड़े सम्मान के साथ आने वाली पीढ़ियों को बताता है और राजस्थान के इतिहास में रानी पद्मावती का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिखा गया है ।

Comments

Trending