Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education & Jobs Cricket World Cup 2019

क्या है रोहिंग्या मुसलमानो का आतंकवादी कनेक्शन ?

 क्या है रोहिंग्या मुसलमानो का आतंकवादी कनेक्शन ?

म्यांमार में बौद्ध अनुयायी बहुसंख्यक समाज से है वही रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक है | बौद्ध धर्म एक शांतिप्रिय संप्रदाय है जिसका मूल ही शान्ति और दया है | फिर आप सोच रहे होंगे की कैसे यह सम्प्रदाय इतना विरोधी और आक्रामक हो गया | इस अचानक उत्पन्न हुए संकट का कारन काफी पुराना है |  म्यांमार में बौद्धधर्मी काफी समय से मुस्लिम तौर  तरीको से होने वाली जीव हत्याओं का विरोध करते रहे है वही रोहिंग्या मुस्लिम अपने धार्मिक तरीको से ही जानवरो को काटते रहे है | विगत वर्षो में वहां कई मुस्लिम संगठनो ने इस विरोध का प्रतिरोध हिंसक तरीको से किया है | अभी कुछ दिनों पूर्व हुए हमले में म्यांमार के कई पुलिस कर्मी मारे गए और कई घायल हो गए | पानी सर से ऊपर जाता देख म्यांमार की सरकार ने इन पर अंकुश लगाना प्रारम्भ  किया तो यहाँ हिंसक प्रदर्शन और बढ़ने लगे | जिसके बाद म्यांमार सरकार को नियत्रण पूरी तरह सेना को देना पड़ा  और वहाँ की सेना ने इन प्रदर्शन करियों और उनका समर्थन करने वालों के खिलाफ युद्ध स्तर पे कार्यवाही की जिसके परिणाम स्वरूप रोहिंग्या मुसलमानो को वहाँ से पलायन करना पड़ रहा है | अब भारत की समस्या ये है की इंटेलिजेंस रिपोर्ट के अनुसार कई आई एस आई एस और पाकिस्तानी आतंकवादी  इसका फायदा उठाकर भारत में एंट्री करना चाहते है | म्यांमार में आई एस आई एस समर्थक रोहिंग्या मुस्लिम भी भारत में आकर तबाही मचा सकते है |          

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रोहिंग्या मुसलमान के खिलाफ हलफनामा दाखिल किया है की उन्हें शरण देना देश की सुरक्षा को खतरे में डालना है | इस पर देश के कई बुद्धिजीवियो का मानना है की मानवता के नाते हमे उन्हें देश में शरण देनी चाहिए | सीरिया, इराक और रोहिंग्या आपको देश की कीमत बेहतर समझा पाएंगे | अगर पलायन करते लोगो से आज भी इन तथाकथित बुद्धिजीवियों ने नहीं सीखा तो वो दिन दूर नहीं जब इन्हे स्वयं भी किसी देश में शरण लेने के लिए मजबूर होना होगा और पता नहीं तब और देश आपको शरण दे या ना दे | राष्ट्र की कीमत समझिये और अपने देश की चुनौतियों को दूर करने के प्रयास करिये | देश पहले ही आतंकवाद और नक्शलवाद से लड़ रहा है अगर देश में नई चुनौतियां पैदा हो जाएँगी तो सबसे ज्यादा नुक्सान यहां के मूल निवासियों को ही उठाना पड़ेगा |

कुछ भी  कहने सुनने से पहले ये समझना जरूरी है की रोहिग्या पलायन क्यों हो रहा है | म्यांमार में रोहिग्या संगठन ने  हिंसा फैला रखी है | हाल ही में रोहिंग्या मुस्लिमो ने म्यांमार की पुलिस पर हमला किया था जिसमे बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी मारे गए थे इसके बाद ही म्यांमार सरकार ने रोहिंग्या ऑपरेशन शुरू किया | अब आप कहेंगे की वहा की सरकार उन पर अत्याचार कर रही होगी | तो आप को बता दे की इनका संगठन बहुत पुराना है और अक्सर इनकी झड़प की खबरे आती रहती है | सूत्रों के मुताबिक़ ISI  के आतंकी वहा उन्हें ट्रेनिंग देने भी जाते रहते है |   2012 में भी जब म्यांमार में रोहिंग्या मुद्दा उठा था तब भारत में हिंसा फैलाई गयी  थी| और उसी दौरान लगभग 40 ,000  रोहिंग्या मुसलमान भारत में अवैध रूप से आकर बस गए थे | ख़ुफ़िया सूत्रों का यह भी कहना है की रोहिग्या मुसलमानो को भड़का कर आईएस आईएस भारत में हिंसा फैलाने की फ़िराक में है | भारत आतंकवाद से दशकों से लड़ रहा है ऐसे में और आतंकी लाकर बसाना कहा तक उचित निर्णय है | वे जहा के निवासी है उन्हें अपनी सरकार से ही अपने मतभेदों को दूर करना चाहिए और दूसरे देशो के लिए परेशानी खड़ी नहीं करनी चाहिए | वे वहा दशकों से रह रहे है म्यांमार उनकी जन्म भूमि है और अपनी जन्म भूमि को छोड़कर कही भी प्रेम और सद्भावना मिलना मुश्किल है | देश  से अलग होकर जीने के बजाय देश से जुड़कर उन्नति के मार्ग अपने और दुसरो के ढूढ़ना ही  सही विकल्प है |किसी भी दृष्टि से देखा जाए ये भारत के लिए चुनौती का ही विषय है |

हमे इस बात को पहले समझना होगा की मानवता ऊपर रखे या देश की सुरक्षा क्योकि बिना किसी देश और उसके प्यार के क्या हाल होता है यह बुद्धिजीवी स्वयं देख सकते है|

 

Comments

Trending