Bollywood Fashion Sports India Beauty Food Health Global Travel Today Tales Facts Others Education & Jobs

पीएम मोदी सत्ता में आने से पहले से कालेधन के खिलाफ अपनी मुहीम शुरू कर चुके थे | उन्होंने कांग्रेस पर भी कार्यवाही ना करने का आरोप लगाया था और जब से श्री मोदी सत्ता में आये है उन्होंने कालेधन को समाप्त कर सभी को मुख्य धारा में लाने के लिए कई कदम उठाये है | नोटबंदी इसका एक उदाहरण है | नोटबंदी के कारण विकास दर 5 .6 %  रहने का अनुमान लगाया जा रहा है और इस पर कांग्रेस ने बीजेपी पर  अपने हमले भी तेज कर दिए है | लेकिन कांग्रेस को पहले इस बात का जवाब देना चाहिए की घोटालो के बाद देश की विकास दर 4 %क्यों हो गयी थी | देश में अपनी कार्यवाही को अंजाम देने के बाद पीएम मोदी ने अपने वादे को निभाते हुए  सबसे ज्यादा कालेधन को पनाह देने वाले देश स्विट्जरलैंड को भी अपनी नीतियों से नतमस्तक कर दिया है |

स्विट्जरलैंड कालेधन के विषय पर भारत की सहायता करने के लिए तैयार हो गया है | स्विट्जरलैंड की राष्ट्रपति डोरिस लिउथर्ड और श्री मोदी ने कई अहम समझौतों पर हस्ताक्षर किये | दोनों देशो के बीच सूचनाओ के आटोमैटिक आदान प्रदान पर समझौता हुआ | इस समझौते के अंतर्गत 2019 से पहले कालेधन और प्रापर्टी से जुडी सूचनाओं का आदान प्रदान शुरू हो जायेगा | रेल हादसों को रोकने के लिए भी भारत स्विट्जरलैंड की तकनीक की सहायता लेगा | पीएम ने बताया की भारत स्विस निवेशको का स्वागत करता है और इस संबंध में द्विपक्षीय वार्ता जारी रहेगी | स्विस राष्ट्रपति डोरिस ने कहा की उन्हें उम्मीद है की आटोमैटिक सूचनाओं के आदान प्रदान से जुड़ा बिल साल के अंत तक स्विस संसद में पास हो जायेगा और 2019 से सूचनाओं का आदान प्रदान प्रारम्भ हो सकेगा |

कालेधन के खिलाफ पीएम मोदी की मुहीम में इसे एक विजय के नजरिये से ही देखा जाएगा |

Comments

Trending